होमकंप्यूटरकंप्युटर वायरस क्या है? (Computer Virus Kya Hai)

कंप्युटर वायरस क्या है? (Computer Virus Kya Hai)

कंप्युटर वायरस क्या है? (Computer Virus Kya Hai)

कंप्युटर वायरस (Computer Virus) ऐसे सूक्ष्म प्रोग्राम होते है जो हमारे Computer में प्रवेश कर के हमारे कंप्युटर तथा कंप्युटर मे उपलब्ध Data को नुकसान पहुंचाते हैं.

कंप्यूटर वायरस, वायरस क्या है, Computer Virus Kya Hai, कंप्यूटर वायरस कैसे फैलता है Virus ki puri jankari

Computer Virus कुछ निर्देश से बना हुआ एक प्रोग्राम मात्र होता है परंतु यह बहुत ही शक्तिशाली होता है, कंप्यूटर में Virus आने के बाद यह Virus अपने आकार और फाइल को बदल कर हमारे कंप्यूटर को नुकसान करते हैं तथा यह कंप्यूटर वायरस खुद को लगातार दोहराता है यानी कि यह एक से ज्यादा फाइल में परिवर्तित होते रहता है.

Computer Virus हमारे कंप्यूटर में उपलब्ध डाटा को संक्रमित कर के हमारे कंप्यूटर को सही तरीके से काम करने से रोकता है या कार्य करने के तरीके को बदल देता है जिससे कि कंप्यूटर ठीक से काम नहीं कर पाता है.

कंप्यूटर वायरस क्या करता है (Computer Virus Kya Kya Karta Hai) ? 

Computer Virus को मुख्यतः हमारे कंप्यूटर तथा कंप्यूटर में उपलब्ध प्रोग्राम को नुकसान पहुंचाने के लिए प्रोग्राम किया जाता है यह हमारे कंप्यूटर में प्रवेश करके हमारे कंप्यूटर और लैपटॉप को अलग-अलग प्रकार से नुकसान पहुंचाता है जो नीचे दिए गए हैं.

  1. कंप्यूटर में उपलब्ध प्रोग्राम को नुकसान पहुंचाता है.
  2. Virus हमारे कंप्यूटर में उपलब्ध फाइल को डिलीट कर देते हैं.
  3. कंप्यूटर हार्ड ड्राइव की रिफॉर्मेटिंग कर देते हैं
  4. Virus लगातार खुद को दोहराता है जिसके कारण हमारे कंप्यूटर की हार्ड ड्राइव फुल हो जाती है.
  5. Computer Crash कर देता है.
  6. सिस्टम परफॉर्मेंस को नुकसान पहुंचाता है.

कंप्यूटर में वायरस कैसे आता है (Computer Me Virus Kaise Aata hai) –

Computer में वायरस अलग-अलग कारणों से आ सकते हैं जैसे वेब एक्टिविटी करने पर अलग-अलग पेनड्राइव से डाटा ट्रांसफर करने से तथा नीचे इसके बारे में पूरी जानकारी दी गई है कि किन किन कारणों से कंप्यूटर में Virus आता है.

  • एक यूजर से दूसरे यूजर को म्यूजिक, फोटोस तथा फाइल शेयर करने पर भी कंप्यूटर में Virus आ जाता है.
  • किसी वायरस से इनफेक्टेड वेबसाइट में विजिट करने पर भी कंप्यूटर में वायरस प्रवेश कर जाते हैं.
  • कंप्यूटर में स्पैम ईमेल खोलने तथा ईमेल अटैचमेंट खोलने से भी हमारे कंप्यूटर में वायरस प्रवेश हो जाते हैं.
  • इंटरनेट से कुछ इनफेक्टेड फाइल डाउनलोड करने पर.
  • क्रैक सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने पर.
  • फ्री गेम डाउनलोड करने पर, टूल बार जैसे सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने पर भी हमारे कंप्यूटर में वायरस प्रवेश कर लेते हैं.
  • अलग-अलग प्रकार के डिवाइस का उपयोग करके डाटा ट्रांसफर करने पर.

Computer Virus कैसे फैलता है (Virus Kaise failta hai) –

Computer Virus को अलग-अलग प्रकार से फैलाया जा सकता है जैसे कि नेटवर्क, यूएसबी, पेन ड्राइव, ईमेल अटैचमेंट, परंतु पहले के जमाने में कंप्यूटरों के बीच कनेक्शन सीमित है इसलिए संक्रमित फ्लॉपी डिस्क के माध्यम से Virus फैलाया जाता था.

असेंबली भाषा क्या है – Assembly भाषा की विशेषताएं

आजकल इंटरनेट का जमाना है और लगभग सभी कंप्यूटर में इंटरनेट कनेक्ट है जिसके कारण इंटरनेट का उपयोग करके वायरस फैलाना आसान है, अलग-अलग साइबर सिक्योरिटी कंपनी के द्वारा किए गए रिसर्च से पता चला है कि संक्रमित ईमेल अटैचमेंट के द्वारा अत्यधिक वायरस फैलाया जाता है, संक्रमित ईमेल अटैचमेंट से वायरस फैलाने के लिए यूजर को एक्शन लेने की जरूरत पड़ती है जैसे कि लिंक पर क्लिक करना, संक्रमित ईमेल को ओपन करना, ईमेल अटैचमेंट डाउनलोड करना.

कंप्यूटर वायरस कैसे हटाए Computer Se Virus Kaise Hataye) –

कंप्यूटर में वायरस आ जाने के बाद कंप्यूटर से वायरस को हटाना एक चुनौतीपूर्ण काम है परंतु कुछ बड़ी-बड़ी कंपनियां है जिन्होंने वायरस हटाने के लिए एंटीवायरस प्रोग्राम का निर्माण किया है और एंटीवायरस का उपयोग करके हम अपने कंप्यूटर से Virus को हटा सकते हैं और अपना कंप्यूटर को सुरक्षित कर सकते हैं.

एंटीवायरस हमारे कंप्यूटर में उपलब्ध सभी फाइल को स्कैन करते हैं यदि उन्हें कोई वायरस या वायरस जैसी प्रतिक्रिया करता हुआ कोई प्रोग्राम मिलता है तो वह हमें सूचित करते हैं और उसे हटाने का सुझाव देते हैं.

कंप्यूटर को वायरस से कैसे बचाएं (Computer Ko Virus Se Kaise Bachaye) – 

जैसे कि अभी तक हमने आपको बताया है कि कंप्यूटर में Virus अलग-अलग प्रकार से आ सकते हैं और कंप्यूटर में वायरस आने से रोकने के लिए भी कुछ इंपॉर्टेंट कदम होते हैं जो हम उठा सकते हैं और अपने कंप्यूटर को वायरस से बचा सकते हैं.

  1. एंटीवायरस तथा फायरवॉल का उपयोग करें.
  2. अपने कंप्यूटर में एंटी स्पाइवेयर सॉफ्टवेयर का उपयोग करें.
  3. कंप्यूटर में इंस्टॉल एंटीस्पाइवेयर और एंटीवायरस को हमेशा अपडेटेड रखें.
  4. अपने कंप्यूटर और लैपटॉप में इंस्टॉल ऑपरेटिंग सिस्टम को रेगुलर अपडेट करते रहें.
  5. इंटरनेट उपयोग करते समय जिस ब्राउज़र का उपयोग करते हैं उसकी सिक्योरिटी को बढ़ाएं.
  6. यदि आप कोई सॉफ्टवेयर डाउनलोड करना चाहते हैं तो ट्रस्टेड और ऑफिशियल वेबसाइट से डाउनलोड करें.
  7. अपने कंप्यूटर में मैसेज और ईमेल को तभी ओपन करें जब आप जानते हैं कि आपको मैसेज किसने भेजा है.
  8. यदि आपको लगता है कि आपको कोई इनफेक्टेड ईमेल भेज रहा है तो उसे तुरंत डिलीट करें.

कंप्यूटर वायरस के प्रकार (Computer virus ke Prakar) –

कंप्यूटर वायरस के बहुत सारे अलग-अलग प्रकार होते हैं हम यहां पर आपको सामान्य कंप्यूटर वायरस के प्रकार के बारे में बता रहे हैं.

1. File-infecting Virus –

इस प्रकार के वायरस कंप्यूटर में इंस्टॉल होने वाले सॉफ्टवेयर में जुड़ जाते हैं और इस तरह के वायरस अधिकतर .exe एक्सटेंशन वाली फाइल को नुकसान पहुंचाते हैं.

2. Macro Virus 

इस प्रकार के वायरस माइक्रोसॉफ्ट वर्ड तथा एक्सेल जैसे प्रोग्रामों में पाए जाते हैं, इस प्रकार के Virus आमतौर से दस्तावेजों के हिस्सों के तौर पर संग्रहित होते हैं और जब इन फाइल को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में भेजा जाते हैं तो यह दूसरे कंप्यूटर को भी संक्रमित कर देते हैं.

3. Browser Hijacker

इस तरह के वायरस ब्राउज़र की सेटिंग को परिवर्तित करते हैं इस तरह के वायरस ब्राउज़र को दुर्भावनापूर्ण वेबसाइट में रीडायरेक्ट कर देते हैं जिनमें हम कभी जाना ही नहीं चाहते हैं तथा ब्राउज़र हाईजैकर वायरस ब्राउज़र के होम पेज को बदलने जैसी समस्या पैदा कर सकते हैं.

4. Web Scripting Virus

इस तरह Virus लोकप्रिय वेबसाइट को संक्रमित करता है यह वायरस वेबसाइट के कोड को संक्रमित कर देता है और और ऐसे लिंक जोड़ देता है जोकि कंप्यूटर में दुर्भावनापूर्ण सॉफ्टवेयर स्थापित कर सकते हैं, तथा इस तरह के वायरस हमारे कंप्यूटर ब्राउज़र से कुकीज़ को चुरा सकते हैं.

5. Polymorphic Virus 

इस प्रकार के वायरस, एंटीवायरस प्रोग्रामों से बचने की क्षमता रखता है, क्योंकि यह वायरस लगातार अपने Code को परिवर्तित करते रहता है.

6. Resident Virus

इस तरह के वायरस कंप्यूटर मेमोरी में खुद को स्टोर कर लेते हैं तथा कंप्यूटर में उपलब्ध फाइल तथा ऑपरेटिंग सिस्टम को संक्रमित करता है, यह वायरस हमारे ऑपरेटिंग सिस्टम में Interference करता है तथा फाइल तथा प्रोग्राम को Corrupt कर देता है जिससे कि हमारा ऑपरेटिंग सिस्टम तथा प्रोग्राम क्रैश हो जाते हैं.

7. Multipartite Virus

इस प्रकार का Virus बहुत ज्यादा संक्रामक होता है और कंप्यूटर सिस्टम में आसानी से फैल जाता है. यह Virus कंप्यूटर मेमोरी सहित, बूट सेक्टर मैं फेल कर कंप्यूटर को नियंत्रित करना मुश्किल कर देता है.

मशीन भाषा क्या है मशीनी भाषा की विशेषताएं

आज हमने इस पोस्ट में Computer Virus के बारे में जाना कि कंप्यूटर वायरस क्या होते हैं, कंप्यूटर वायरस किस तरह से फैलते हैं, वायरस को फैलने से कैसे रोक सकते हैं, उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी और आप कंप्यूटर वायरस के बारे में अच्छी तरह से जान गए होंगे.

Tags :- कंप्यूटर वायरस, वायरस क्या है, Computer Virus Kya Hai, कंप्यूटर वायरस कैसे फैलता है Virus ki puri jankari hindi me कंप्युटर वायरस क्या है? (Computer Virus Kya Hai).

इन्हें भी पढ़ें :-

मल्टी टास्किंग क्या है? (Multitasking Operating System Kya hai)

कंप्यूटर में डाटा खर्च कम कैसे करें

कंप्यूटर के प्रकार / Computer Kitne Prakar Ke Hote Hain ?

कम्प्यूटर की पीढ़ियां (Generations of Computers)

कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer)

मेमोरी मापन इकाइयां (कंप्यूटर मेमोरी मापने की इकाई)

इनपुट डिवाइस क्या है ? कंप्यूटर के इनपुट डिवाइस कौन से है

Reetesh
Reeteshhttp://Alltrickinfo.in
Hi I'm Reetesh chandrawanshi founder of Alltrickinfo.in, living in Chhindwara (M. P.), India. I am a fan of technology, and photography. I'm also interested in blogging, and sports...

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

nineteen + seven =

Popular Post