होमकंप्यूटरDTP क्या हैं, (Desktop publishing ) परिभाषा, कार्य, उपयोग और फायदे

DTP क्या हैं, (Desktop publishing ) परिभाषा, कार्य, उपयोग और फायदे

दोस्तों यदि आप इंटरनेट से जुड़े हुए हैं तो आपने DTP का नाम जरूर सुना होगा लेकिन फिर भी बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें DTP के बारे में जानकारी नहीं हैं। आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे DTP क्या हैं? इसकी परिभाषा और उपयोग करने का तरीका साथ ही इसके क्या क्या बेनिफिट है इनके बारे में भी जानने वाले हैं।

DTP (Desktop publishing ) क्या हैं, DTP क्या हैं, Desktop publishing क्या हैं

दोस्तो अगर आप भी इंस्टाग्राम से पैसे कमाने के लिए शॉटआउट और प्रमोशन का काम करते है तो इसके लिए आपके इंस्टाग्राम पर अच्छे फॉलोअर्स का होना बहुत जरूरी है। अगर आपको भी अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अच्छे फॉलोअर्स बढ़ाने है तो हम आपको कुछ सबसे बढ़िया Instagram Par Follower Badhane Wala App के बारे में बताने वाला हूँ जिनसे आप फ्री में फॉलोअर्स बढ़ा सकते है।

DTP क्या हैं ? What Is DTP In Hindi

DTP का Full Form होता हैं Desktop Publishing, इसको हम अलग-अलग समझने का प्रयास करते हैं Desk का मतलब होता हैं Table, Top का मतलब होता हैं ऊपर और Publishing का मतलब होता हैं प्रकाशन यानी टेबल के ऊपर प्रकाशन। टेबल के ऊपर प्रकाशन के लिए हमें किसी न किसी डिवाइस की जरूरत होती हैं और इसके लिए हम PC,Scanner,Printer को रख सकते हैं।

जब हम किसी का उपयोग करेंगे तो इसमें हम प्रकाशन करने के लिए किसी ना किसी सॉफ्टवेयर का जरूर इस्तेमाल करेंगे जिसके अंदर हम Design करेंगे तो हम Page maker & Photoshop के बारे में जानेंगे।

DTP का इतिहास – (History Of DTP In Hindi)

DTP का इतिहास कुछ अनोखा रहा है सबसे पहले 1970 में डेस्कटॉप पब्लिशिंग को जेरोक्स PARC में Develop किया गया था। लेकिन 1985 में एप्पल के लेजर प्रिंटर मार्केट में आने से DTP में तेजी आ गई इसके बाद पेजमेकर सॉफ्टवेयर की शुरुआत हुई जो तेजी से DTP उद्योग का मानक सॉफ्टवेयर बन गया।

1985 में पेजमेकर ने प्रोफेशनल डीटीपी में माइक्रोसॉफ्ट को पछाड़ दिया डेक्सटॉप पब्लिशिंग वर्ल्ड को यूज करने का क्रेडिट एल्डस के फाउंडर पोल ब्रैंडर को दिया जाता हैं।

DTP में काम कैसे होता हैं | Working in DTP

कल्पना कीजिए कि आप एक कस्टमर है आपके पास रो मटेरियल है और आप उस रो मटेरियल को लेकर एक शॉप पर जाते हैं तो Shop का मालिक आपके रो मटेरियल की सभी डिटेल को अपने पीसी या लैपटॉप के नोटपैड में नोट करेगा। इसके बाद वह उसका डिजाइन बनाने के लिए पेज लेआउट में जाएगा उसके लिए वह किसी भी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर सकता है।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर क्या है? Application Software के प्रकार (Application Software Kya hai)

उसके बाद वह आपकी मटेरियल का एक इमेज तैयार करेगा क्योंकि जब तक आपके प्रोडक्ट का कोई इमेज नहीं होगा तो वह product अधूरा सा लगता है। इसके बाद वह आपको Proof printing देगा जिसको आप कुछ चेक करके बताना होता है जब आप उसको वेरीफाई कर देंगे तो दुकानदार आपको Final Printing करके देगा। तो आपने डीटीपी के काम करने के सभी स्टेप्स को जान लिया होगा जो निम्न हैं –

  • Creating a Text
  • Setting a page Layout
  • Creating a image
  • Proof printing
  • Final Printing

DTP Page के प्रकार – (Types Of DTP Page)

डेस्कटॉप पब्लिशिंग में दो प्रकार के पेज होते हैं जिनमें से पहला होता है Electronic Page और दूसरा होता हैं Virtual Page, चलिए दोनों पेज के बारे में थोड़ी जानकारी और जान लेते हैं –

(1)Virtual Page :

DTP में virtual page एक काल्पनिक स्टोरी की तरह होता है जिस तरह हम काल्पनिक स्टोरी में केवल किसी भी करैक्टर का अनुमान लगाते हैं उसी तरीके से वर्चुअल पेज की मदद से आप प्रिंट किए जाने वाले पेज का अनुमान लगा सकते हैं इससे आपको थोड़ा आभास हो जाएगा कि जो page आप प्रिंट करने वाले हैं उसका Design केसा हैं। इसके बाद वर्चुअल पेज की मदद से आप प्रिंटिंग पेज को एडिट करके अपने हिसाब से डिजाइन कर सकते हैं।

(2)Electronic Page :

Electronic page की मदद से आप बुक, वेबसाइट , प्रेजेंटेशन जैसी चीजों को प्रिंट नहीं कर सकते हैं लेकिन इन चीजों को आप एक डिजिटल तौर पर शेयर जरूर कर सकते हैं। वेबसाइट पर आपको जो भी आर्टिकल देखने को मिलता है वह DTP से तैयार होता हैं उसे आप केवल पढ़ सकते हैं उसको प्रिंट नहीं कर सकते हैं इसके अलावा आप के दूसरे लोगों के साथ शेयर कर सकते हैं।

DTP के उपयोग – Use Of DTP In Hindi

DTP का Use आज के समय में हर जगह होता है लेकिन हम इसके मुख्य रूप से इस्तेमाल के बारे में जानने वाले हैं DTP हमारे दैनिक जीवन से बहुत अधिक जुड़ाव रखता है News Paper,Pumplet, Books,Visiting Card,Advertisement,Calendar,Poster, Menu Card, इन सभी की डिजाइनिंग से लेकर प्रिंटिंग तक DTP का इस्तेमाल किया जाता है।

(1) Advertisement में DTP का उपयोग :

अगर हम एडवर्टाइजमेंट की बात करते हैं तो इसमें Art work, हैडिंग,Body,Contact होता हैं इसको डीटीपी की मदद से तैयार किया जाता है इन सभी कलेक्शन को एक अच्छे रूप में तैयार करके हम एक अच्छा एडवर्टाइजमेंट बना सकते हैं आज के समय में सबसे ज्यादा एडवर्टाइजमेंट डीटीपी के मदद से तैयार किए जाते हैं।

(2)Visiting Card में DTP का उपयोग :

अगर एक विजिटिंग कार्ड की बात करें तो एक विजिटिंग कार्ड में क्या-क्या चीजें हो सकते हैं जैसे :Name Of the person,Title Of The Job,Name Of the Organization,Address, List Of Service इन सभी काम को हम डीटीपी के माध्यम से करते हैं।

(3)Books में DTP का उपयोग :

Books को तैयार करने के लिए हमें बहुत सारी प्रोसेस से गुजर ना होता है सबसे पहले Front Matter, Body Of Book,End Of the book components,or लास्ट में Binding की जाती हैं इन सभी कामों को DTP की मदद से किया जाता हैं।

कंप्यूटर की सीमाएं (Limitations of Computers)

इसके अलावा भी डीटीपी का उपयोग बहुत से डॉक्यूमेंट को डिजाइन करने के लिए किया जाता है जैसे :

लेटर हेड

निंमत्रण पत्रिका

कार्यालय नोटिस

आवेदन पत्र

बिल बुक

पोस्टर

बिजनेस कार्ड

Popular DTP Software

(1) Adobe Page Maker:

Adobe Page Maker Pdf Format को स्वीकार करता है और इस सॉफ्टवेयर का मुख्य काम होता है कि Text और Image के Format को बदलना।जब हम किसी फोटो की एडिटिंग कर रहे होते हैं और हमें उस फोटो का साइज चेंज करना होता है तो हम एडोब पेजमेकर की मदद से वह काम कर सकते हैं इसमें हम अपने फोटो के इसको अपने हिसाब से चेंज कर सकते हैं।

(2) Microsoft Publisher:

इस Software का इस्तेमाल Business Cards, Greetings cards और Calendar को डिजाइन करने के लिए किया जाता है। किसी भी पेज को बनाना इंपॉर्टेंट नहीं होता है उस पेज को डिजाइन करना इंपोर्टेंट रहता है क्योंकि अब तक कोई पेज अट्रैक्टिव नहीं होगा तब तक लोग आपकी सर्विस को लेना पसंद नहीं करेंगे।

(3) Adobe Indesign :

Adobe क्रिएटिव सूट का एक हिस्सा माना जाता है और यह एल्डस पेजमेकर से अपग्रेड हैं। यह सॉफ्टवेयर आपको विंडो और मैक दोनों पर देखने को मिल जाएगा। यह सॉफ्टवेयर थोड़ा महंगा रहता है इसलिए इसका इस्तेमाल ज्यादा प्रोडक्शन वाली कंपनियां और बड़ी वेबसाइटों के द्वारा किया जाता है।

(4) QuarkXPress:

Indesign की मार्केट में आने से पहले QuarkXPress मार्केट में सबसे प्रचलित सॉफ्टवेयर माना जाता था इस सॉफ्टवेयर को भी आप विंडो और मेक दोनों में एक्सेस कर सकते हैं और किस में मिलने वाले सभी फीचर्स इन डिजाइन की तरह ही है।QuarkXPress, एडोब इलस्ट्रेट, पीडीएफ,इपीएस यहां तक कि इंडिजाइन की फाइलों को QuarkXPress change करने में helpful हैं।

DTP के फायदे – (Benefits Of DTP in Hindi)

(1) DTP में तैयार की गई किसी भी डॉक्यूमेंट या फाइल में गलती होने पर बड़ी आसानी से सुधार किया जा सकता है। पूरानी तकनीकी में जो डिजाइन किए जाते थे उनमें सुधार करना काफी मुश्किल काम रहता था लेकिन इस नई टेक्नोलॉजी के चलते आप हर डाक्यूमेंट्स फाइल को कुछ इस समय अंतराल में अपनी स्क्रीन पर सुधार कर सकते हैं।

(2) पहले के समय में किसी भी बुक्स या फिर डॉक्यूमेंट की डिजाइन की जाती थी तो एक स्पेशल कलाकार की जरूरत होती थी जो डिजाइनिंग का काम करता था इस वजह से बुक की कंपोजिंग की लागत बहुत ज्यादा बढ़ जाती थी लेकिन आज के समय में डीटीपी टेक्निक के चलते किसी भी बुक की कंपोजिंग बड़ी आसानी से और जल्दी से हो जाती है इसके लिए लगने वाली लागत पहले की तुलना में बहुत कम आती है।

एंटीवायरस क्या है (Antivirus Kya Hai)

(3) डीटीपी में मिलने वाले टूल्स काफी एडवांस लेवल के होते हैं जिस वजह से एक यूजर को क्रिएटिव बनाने में यह हेल्प करते हैं।

(4) पुरानी तकनीकी में जब किसी डॉक्यूमेंट को डिजाइन किया जाता था तो कुछ डॉक्यूमेंट को कस्टमाइज करना थोड़ा मुश्किल हो जाता था लेकिन DTP में आप किसी भी डॉक्यूमेंट या फाइल को बड़ी आसानी से कस्टमाइज कर सकते हैं उसको अपने हिसाब से छोटा या बड़ा कर सकते हैं।

(5) DTP में Use होने वाले सभी सॉफ्टवेयर काफी user-friendly होती हैं जिन्हें कोई भी बड़ी आसानी से समझ सकता है।

Conclusion : 

उम्मीद करते हैं दोस्तों आपको हमारे द्वारा बताई गई जानकारी DTP (Desktop Publishing ) अच्छे से समझ में आ गई होगी। इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको DTP (Desktop publishing ) क्या हैं,परिभाषा,कार्य, उपयोग और फायदे के बारे में कंप्लीट जानकारी दी है। फिर भी यदि आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई भी प्रश्न है तो आप हमें कमेंट बॉक्स के जरिए पूछ सकते हैं।

इनपुट डिवाइस क्या है ? कंप्यूटर के इनपुट डिवाइस कौन से है

आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों तक शेयर करें ताकि उन्हें भी DTP के बारे में पता चल पाए।

FAQ – DTP (Desktop Publishing)

Q.1 पब्लिकेशन में डीटीपी के क्या फायदे हैं?

Ans: पब्लिकेशन में डीटीपी का सबसे बड़ा फायदा तो यह है कि इसमें समय की बचत होती है साथ ही किसी भी बुक की कंपोजिंग लागत बहुत कम आती है। यदि printing करते समय कोई भी मिस्टेक हो जाती है तो मिस्टेक को भी इस तकनीकी की मदद से बड़ी आसानी से ठीक किया जा सकता है।

Q.2 कमर्शियल डीटीपी पैकेज क्या है?

Ans: कमर्शियल डीटीपी पैकेज के अंतर्गत बुक को डिजाइन करना किसी भी समाचार पत्रिका को डिजाइन करना जैसी सुविधाएं प्रदान की जाती है। इसलिए कमर्शियल डीटीपी पैकेज में अलग-अलग प्रकार के पेज की एडिटिंग करने का काम किया जाता है और इस एप्लीकेशन के माध्यम से सामान्य पेज लेआउट तैयार किए जाते हैं।

Q.3 डीटीपी पैकेज कितने प्रकार के होते हैं?

Ans: डीटीपी पैकेज मुख्य रूप से चार प्रकार के होते हैं वर्ड प्रोसेसिंग पैकेज, पेज लेआउट के पैकेज, ग्राफिक डिजाइन के पैकेज,फोटो एडिटिंग पैकेज। 34 पैकेज के आधार पर ही डीटीपी का पूरा काम किया जाता है।

Tasg:- DTP क्या हैं, Desktop publishing क्या हैं, DTP (Desktop publishing ) क्या हैं, परिभाषा, कार्य, उपयोग और फायदे.

इन्हें भी पढ़ें :-

मल्टी टास्किंग क्या है? (Multitasking Operating System Kya hai)

कंप्यूटर में डाटा खर्च कम कैसे करें

कंप्यूटर के प्रकार / Computer Kitne Prakar Ke Hote Hain ?

कम्प्यूटर की पीढ़ियां (Generations of Computers)

कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer)

मेमोरी मापन इकाइयां (कंप्यूटर मेमोरी मापने की इकाई)

Reetesh
Reeteshhttp://Alltrickinfo.in
Hi I'm Reetesh chandrawanshi founder of Alltrickinfo.in, living in Chhindwara (M. P.), India. I am a fan of technology, and photography. I'm also interested in blogging, and sports...

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

1 × 1 =

Popular Post