Home कंप्यूटर RAM क्या है? RAM के प्रकार

RAM क्या है? RAM के प्रकार

0
RAM क्या है, RAM के प्रकार, RAM की विशेषताएं, ram memory kya hai puri jankari

RAM कंप्युटर का एक अभिन्न हिस्सा जिसके बिना कंप्युटर चलाना मुमकिन नहीं है, यदि कोई कंप्युटर या मोबाईल जैसे इलेक्ट्रानिक्स मशीन काम कर रहे हैं तो उनके अंदर कहीं न कहीं रैम मौजूद है, और आज हम इस पोस्ट में रैम के बारे में पूरी जानकारी लेंगे की RAM क्या है, RAM कितने प्रकार की होती है.

RAM क्या है?

रैम (RAM) मेमोरी का पूरा नाम Random Access Memory है, रैम में कंप्यूटर में वर्तमान में किया जा रहे कार्यों का डाटा स्टोर होता है, यह एक Read / Write मेमोरी है जो कंप्यूटर के काम करने तक डाटा को स्टोर रखती है और जैसे ही कंप्यूटर को बंद किया जाता है यह डाटा को मिटा देती है.

रैम कंप्युटर की प्राथमिक मेमोरी (Primary Memory) होती है जो सीपीयू का हिस्सा होती है और जिससे की  CPU रैम के डाटा को सीधे एक्सेस करता है, RAM में उपलब्ध डाटा को Randomly Access किया जा सकता हैं. इसी विशेषता के कारण इस मेमोरी का नाम Random Access Memory रखा गया हैं.

RAM और ROM क्या है? रैम और रोम में अंतर

RAM एक Volatile Memory होती हैं जिसका मतलब है की रैम मे उपलब्ध डाटा हमेशा स्टोर नहीं रहता है पावर बंद करने पर या कंप्युटर Shut down करने पर इसमे उपलब्ध सभी डाटा अपने आप ही Delete हो जाता है, रैम में डाटा तब तक ही रहता है जब तक कंप्युटर चालू रहता है.

RAM के प्रकार –

RAM मेमोरी मुख्यतः दो प्रकार की होती है.

1. SRAM (Static Random Access Memory)

2. DRAM (Dynamic Random Access Memory)

1. SRAM (Static Random Access Memory) – 

SRAM भी एक प्रकार की Random Access Memory होती है जो की Volatile memory होती है जिसमे डाटा स्टोर रखने के लिए पावर की जरूरत पड़ती है, पावर बंद करने पर या कंप्युटर बंद करने पर इसमे स्टोर डाटा Delete हो जाता है.

SRAM चिप्स 6 ट्रांजिस्टर के मैट्रिक्स का उपयोग करते हैं, और इसमें कोई कैपेसिटी नहीं होता है ट्रांजिस्टर को रिसाव से रोकने के लिए किसी भी प्रकार की शक्ति की आवश्यकता नहीं होती है इसीलिए SRAM को नियमित रूप से ताजा (Refresh) करने की जरूरत नहीं पड़ती है.

SRAM की विशेषता –

  • Long life.
  • अधिक तेज.
  • अधिक महंगा.

2. DRAM (Dynamic Random Access Memory) –

DRAM डाटा को बनाए रखने के लिए लगातार Refresh (ताजा) होती है इस मेमोरी को Refresh करने के लिए सर्किट का उपयोग किया जाता है, जो डाटा को प्रति सेकंड कई सौ बार रिफ्रेश करता है.

DRAM का इस्तेमाल ज्यादातर सिस्टम मेमोरी के लिए किया जाता है यह मेमोरी सस्ती और छोटी होती है जिसके कारण इसका उपयोग अधिक होता है, DRAM मेमोरी सेल से बने होते हैं जो एक कैपेसिटी और एक ट्रांजिस्टर से बने होते हैं.

DRAM की विशेषता –

  • Short Life.
  • Slow.
  • Small.

अभी तक हमने रैम क्या है और रैम कितने प्रकार की होती है इसके बारे में जाना तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और राम की विशेषताओं के बारे में जानते हैं.

RAM की विशेषताएं –

  1. रैम गति में तेज होता है.
  2. रैम कंप्यूटर की प्राइमरी मेमोरी होती है.
  3. रैम कंप्यूटर का भाग होती है.
  4. रैम में उपलब्ध डाटा को एडिट तथा डिलीट कर सकते हैं.
  5. रैम के बिना कंप्यूटर नहीं चला सकते.
  6. यह मेमोरी महंगी होती है.
  7. रैम में उपलब्ध डाटा को सीपीयू रेंडमली एक्सेस कर सकता है.
  8. रैम एक Volatile Memory होती हैं
  9. रैम में उपलब्ध डाटा तब तक स्टोर रहता है जब तक पावर चालू होती है पावर बंद होने या कंप्यूटर शटडाउन होने के बाद RAM में उपलब्ध डाटा मिट जाता है.

इन्हें भी पढ़ें :-

मेमोरी क्या है ? मेमोरी के प्रकार

इनपुट डिवाइस क्या है ? कंप्यूटर के इनपुट डिवाइस कौन से है

कंप्यूटर में डाटा खर्च कम कैसे करें

कंप्यूटर के प्रकार / Computer Kitne Prakar Ke Hote Hain ?

कम्प्यूटर की पीढ़ियां (Generations of Computers)

कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer)

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 5 =

Exit mobile version